खसखस के 9 छुपे चमत्कारिक फायदे | Khas Khas Ke Fayde

खसखस क्या है (Khas Khas in Hindi) खसखस के फायदे, नुकसान, उपयोग (Khas Khas Ke Fayde, Khus Khus Ke Nuksan, Poppy Seeds in Hindi, Khus Khus in Hindi)

khas-khas-ke-fayde-poppy-seeds-in-hindi
खसखस के फायदे – Khas Khas Ke Fayde

हमारे वातावरण में कई प्रकार की औषधियाँ मौजूद है जिनमे बहुत से रोगों को ठीक करने के गुण विधमान है। कुछ पौधे या औषधियाँ ऐसी होती है जिनके गुणों का हमे पता नहीं होता। आज हम जिस पौधे एवं उसके बीज के गुणों के बारे में बात करने वाले है वह है खसखस। आइये जानते है खसखस क्या है तथा खसखस खाने के फायदे क्या है?

Table of Contents

अच्छी सेहत के लिए टेलीग्राम जॉइन करे

खसखस क्या है? (Khas Khas Kya Hai)

खसखस एक प्रकार का सुगंधित पौधा होता है। यह पौधा वर्षा में होने वाला पौधा होता है। जिस पौधे से खसखस के बीज प्राप्त होते हैं उस पौधे को पॉपी नाम से जाना जाता है। इस पौधे का वानस्पतिक नाम वेटिवीरिआ जिजेनियोडीस है। वैसे यह खसखस नाम से ही प्रचलित है। यह एक औषधीय पौधा माना जाता है।

इसके तेल से साबुन इत्र आदि बनाए जाते हैं और इसके अलावा खसखस का उपयोग अनेक तरह के रोगों के इलाज में भी किया जाता है व इसके लड्डू भी बनाकर खाए जाते हैं। खसखस को विशेष रुप से मध्य यूरोप और दक्षिणी एशिया में कानूनी रूप से बोया जाता है और दुकानों में बेचा जाता है।

औषधिखसखस
वानस्पतिक नामवेटिवीरिआ जिजेनियोडीस
अंग्रेजी नाम Poppy Seeds
परिवार Papaveraceae (पॉपी परिवार)
बनावट व रंग किडनी के आकार के छोटे नीले व सफेद
कहाँ अधिक पैदावार होती है?भारत, रूस, मिस्र, यूगोस्लाविया, पोलैंड, जर्मनी, नीदरलैंड, चीन, जापान, अर्जेंटीना आदि
भारत के अधिक उत्पादन करने वाले प्रदेश मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश

खसखस में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Nutrients)

पोषक तत्वों के द्वारा शरीर में उत्तकों का निर्माण और उनकी मरम्मत में काफी मदद मिलती है । इसीलिए पोषक तत्व हमारे शरीर के लिए अमृत के समान होते हैं इनकी कमी के कारण शरीर को सुचारू रूप से कार्य करने में परेशानियां होती है।

खसखस में भी काफी सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं। खसखस में कैल्शियम, कैलरी, प्रोटीन, फाइबर, फास्फोरस,एजुलीन, रेजिन ,आयरन, फेरस ऑक्साइड, फैट, वाष्पशील वेटियर तेल, और जिजोनोइक अम्ल आदि पोषक तत्व पाए जाते हैं।

तालिका : नीचे दी गयी तालिका में खसखस के 100 ग्राम बीजों में कितने पौषक तत्व हो सकते है इसका वर्णन किया गया है। खसखस के 100 ग्राम में 530 कैलोरी हो सकती है।

पौषक तत्व मात्रा (ग्राम में)
कार्बोहाइड्रेटस28
प्रोटीन 18
कुल वसा 41
फाइबर आहार 19
मैगनीशियम0.347
फास्फोरस0.87
कैल्शियम1.438
विटामिन सी0.001
विटामिन ई0.00177

खसखस के उपयोग (Uses of Poppy Seeds in Hindi)

खसखस को स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी अच्छा माना जाता है क्योंकि उसमें काफी सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं और इसके उपयोग से काफी सारी बीमारियों में लाभ मिलता है। खसखस का नियमित रूप से सेवन करने से आपको स्वास्थ्य में काफी सुधार देखने को मिल सकते हैं इसलिए आगे हम आपको इसके कुछ उपयोग के बारे में जानकारी देंगे –

  • खसखस के उपयोग से सर्दी – खांसी जैसी समस्या में काफी राहत मिलती है।
  • इसका उपयोग कई प्रकार के व्यंजनों में भी किया जाता है।
  • खसखस का उपयोग ब्रेड, सब्जियों और सलाद की सजावट करने के लिए भी किया जाता है।
  • खसखस का उपयोग मिठाई बनाने में भी किया जाता है।
  • खसखस के पेस्ट का उपयोग एक मसाले के रूप में चिकन, मांस और सब्जियां बनाने में किया जाता है।
  • खसखस का उपयोग पेस्ट्री में भी किया जाता है।
  • सब्जी बनाते समय ग्रेवी को गाढ़ा करने के लिए खसखस के पेस्ट का उपयोग किया जाता है।

खसखस के प्रकार (Khas Khas Ke Prakar)

खसखस को एक लाभकारी खाद्य पदार्थ के रूप में जाना जाता है। इसका सेवन भारत के अलावा और भी अन्य देशों में किया जाता है। सामान्यतः खसखस दो प्रकार का होता है –

i. नीले खसखस

इस प्रकार के खसखस की खेती यूरोपीय देशों में की जाती है इसीलिए इन्हें यूरोपीय खसखस भी कहा जाता है। इस प्रकार के खसखस का इस्तेमाल ज्यादातर ब्रेड और कन्फेक्शनरी (मिठाई एवं चॉकलेट) में किया जाता है।

ii. सफेद खसखस

इस प्रकार के खसखस की खेती भारत और एशियाई देशों में की जाती है इसीलिए इन्हें भारतीय और एशियाई खसखस कहा जाता है। इनका इस्तेमाल अधिकतर कई प्रकार के खाद्य व्यंजनों में किया जाता है।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > केला ऐसे खाने पर ही मिलते है असली लाभ

खसखस के फायदे (Khas Khas Ke Fayde)

खसखस को स्वास्थ्य की दृष्टि से शरीर के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसके सेवन से कई प्रकार की आम और गंभीर समस्याओं में काफी हद तक राहत मिल सकती है। यह छोटे-छोटे बीजों वाला खाद्य पदार्थ होता है जिसमें कैलोरी, प्रोटीन, आयरन आदि पोषक तत्व अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं इसीलिए आगे खसखस खाने के फायदे के बारे में आपको जानकारी उपलब्ध कराते हैं-

1. पाचन सुधारने में खसखस के फायदे

खसखस पाचन में काफी फायदेमंद होता है। यह भोजन का सही तरीके से पाचन करके पेट को कब्ज गैस जैसी समस्याओं से मुक्त रखने में मदद करता है क्योंकि खसखस में फाइबर जैसा पोषक तत्व अच्छी मात्रा में पाया जाता है, इसीलिए खसखस के नियमित रूप से सेवन करते रहने से पेट को स्वस्थ बनाए रखने में काफी हद तक मदद मिल सकती है और यदि पेट स्वस्थ रहेगा तो मनुष्य का मन भी स्वस्थ रहेगा और वह कार्यशील बना रहेगा।

2. नींद के लिए खस खस का उपयोग

खस खस अनिद्रा जैसी समस्या में काफी लाभकारी होता है। माना जाता है कि खसखस का सेवन अनिद्रा की समस्या को दूर करने के लिए पुराने समय से ही किया जाता रहा है। वैसे यह नींद की समस्या को दूर करने में कितना कारगर है इसका कोई अनुमान नहीं है।

खसखस एक नशा युक्त पदार्थ होता है लेकिन बाजार में इसको पूरी तरह से साफ करने के बाद ही बेचा जाता है इसीलिए घरों में इस्तेमाल होने वाली खसखस नशा मुक्त होती है।

3. दर्द में खसखस खाने के फायदे

खसखस से जो तेल बनाया जाता है उसका इस्तेमाल दर्द से राहत पाने के लिए किया जाता है क्योंकि खसखस में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं जो मांसपेशियों की सूजन को कम करने में मदद करते हैं और हमारे शरीर में मौजूद अंगों और हड्डियों को मजबूत बनाते हैं। इसके तेल के नियमित इस्तेमाल से आपका शरीर सुडोल और स्वास्थ्य बना रहेगा इसीलिए खसखस को दर्द निवारक औषधि के रूप में भी जाना जाता है।

4. मुंह के छालों में खसखस के फायदे

खसखस मुंह के छालों के लिए भी काफी लाभकारी होता है क्योंकि खसखस की तासीर ठंडी होती है जिससे मुंह के छालों को कम करने में मदद मिलती है और धीरे धीरे यह ठीक हो जाते हैं।

मुंह के छालों की बात करें तो शरीर में पित्त की मात्रा अधिक होने के कारण मुंह में छाले हो जाते हैं जिस कारण हमें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि मुंह में छाले होने की वजह से हम अच्छी तरह से खाना नहीं खा सकते। इसीलिए खसखस के द्वारा इसका घरेलू उपचार किया जा सकता है।

5. आग से जलने पर राहत दिलाए खसखस

खसखस की घास का पेस्ट बनाकर आग से जलने वाली जगह पर लगाने से काफी राहत मिलती है क्योंकि खसखस एक ठंडा और जीवाणु रोधी औषधि है इसीलिए यह जली हुई जगह पर संजीवनी बूटी जैसा काम करता है।

आमतौर पर आपने देखा होगा ज्यादातर लोग, यदि कहीं जल जाता है तो नारियल तेल का इस्तेमाल करते हैं उससे भी काफी हद तक राहत मिलती है लेकिन यदि पानी का इस्तेमाल करते है तो उस जगह पर छाले पड़ जाते हैं इसीलिए पानी का इस्तेमाल ना करके नारियल तेल या खसखस का इस्तेमाल करें। यह दोनों ही काफी फायदेमंद होते हैं।

6. डिप्रेशन में Khus Khus Ke Fayde

जैसा कि हमने बताया कि खसखस अनिद्रा की समस्या में काफी फायदेमंद होता है उसी प्रकार डिप्रेशन मैं भी यह काफी अच्छा माना जाता है । न्यूरोट्रांसमीटर के उत्पादन के कारण यह मस्तिष्क को कार्य को सुचारु रुप से करने में मदद करता है और तनाव या डिप्रेशन को कम करता है।

डिप्रेशन के लिए आप इसके तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। तेल का इस्तेमाल नहाने के पानी में करना है क्योंकि इस की तासीर ठंडी होती है और नहाने के पानी में इसकी कुछ बूंदे मिलाकर नहाने से मस्तिष्क को शांति मिलती है जिससे डिप्रेशन कम होता है।

7. बुखार के लिए खसखस के फायदे

जैसे दूसरी समस्याओं में खसखस काफी फायदेमंद होता है उसी प्रकार बुखार में भी इसका सेवन काफी लाभकारी माना जाता है। शायद किसी को पता नहीं होगा कि खसखस का सेवन बुखार में भी किया जा सकता है। बुखार में खसखस की घास का सेवन किया जाता है और इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण होने के कारण यह बुखार को कम करने में मदद करता है।

बुखार में राहत पाने के लिए आप खाने के बाद इसकी घास का बना चूर्ण शहद या पानी के साथ ले सकते हैं।

8. बालों को झड़ने से रोकने में खसखस के फायदे

हम सभी को अपने बालों से काफी लगाव होता है यदि ये झड़ने लगते हैं तो हम परेशान हो जाते हैं, इस समस्या में राहत पहुंचाने के लिए आप खसखस का सेवन और इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि इसमें कैल्शियम होता है जो बालों का झड़ना कम करता है और नए बाल उगाने में मदद करता है। खसखस के इस्तेमाल से बाल चमकदार और स्वस्थ बनते हैं। और बालों की ग्रोथ भी अच्छी होती है।

खसखस का इस्तेमाल बालों के लिए नारियल तेल में मिलाकर करे और इसका इस्तेमाल हफ्ते में दो से तीन बार कर सकते हैं। इसको बालों की त्वचा पर लगाएं और कुछ ही दिनों में फायदा दिखाई देगा।

9. त्वचा के संक्रमण को दूर करने में खसखस के लाभ

हम अपनी त्वचा के लिए काफी सारी क्रीम का इस्तेमाल करते हैं जिन से त्वचा पर कभी-कभी इंफेक्शन हो जाता है, जिस को दूर करने के लिए हम खसखस का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि खसखस में एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी इन्फ्लेमेटरी और अच्छी मात्रा में लिनोलेनिक एसिड पाए जाते हैं जो त्वचा के संक्रमण को कम करने में काफी मददगार होते हैं।

त्वचा इन्फेक्शन में राहत पहुंचाने के लिए खसखस का इस्तेमाल करने से इस स्थिति में काफी सुधार आता है और साथ ही त्वचा चमकदार होती है। और यदि त्वचा में इसके अलावा और भी कोई दिक्कत होती है तो वह भी खसखस से दूर हो जाती है।

खसखस का इस्तेमाल किस मौसम में करना चाहिए?

जैसा कि हमने बताया खसखस के जितने फायदे बताएं जाए उतने कम है यह तो औषधीय गुणों का भंडार है, और इसके औषधीय गुणों के कारण आप किसी भी मौसम में इसका सेवन कर सकते हैं लेकिन डॉक्टरों के अनुसार खसखस का प्रभाव ठंडा होता है इसीलिए इसका सेवन गर्मी के मौसम में करना ज्यादा फायदेमंद होता है।

सर्दी के मौसम में इसका सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि इसकी तासीर ठंडी होती है और इसके सेवन से आपको दिक्कत हो सकती है।

👉 पोस्ट पढ़े > पढ़ना ना भूले अजवाइन सत के गजब के फायदे

खसखस खाने के नुकसान (Khus Khus Ke Nuksan)

जिस तरह खसखस का सेवन करने से अनगिनत फायदे होते हैं उसी प्रकार इसका सेवन करने से हमारे शरीर को नुकसान भी हो सकते हैं इसीलिए इसका सेवन सही और निश्चित मात्रा में ही करना चाहिए।

आगे हम आपको इसके कुछ नुकसान बताएंगे –

  • अधिक मात्रा में खसखस का सेवन करने से पेट भारी महसूस होता है।
  • सर्दी और खांसी में इसका सेवन अधिक मात्रा में करने से समस्या बढ़ सकती है।
  • खसखस का सेवन करने से आंखों में सूजन भी हो सकती है।
  • इसके अधिक सेवन से सांस लेने में भी दिक्कत की समस्या हो सकती है।
  • यदि आप इसके बीजों को सुघते हैं तो उसकी सुगंध से आपको एलर्जी की समस्या हो सकती है।
  • खसखस के अधिक सेवन से कब्ज जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।
  • इसका अधिक सेवन करने से शरीर में सुस्ती की समस्या भी हो सकती है।

खसखस का सेवन कब करना चाहिए?

खसखस हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है क्योंकि इसमें काफी सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं और यह कई बीमारियों में भी काफी फायदेमंद होता है। खस खस कैल्शियम और कॉपर से भरपूर होता है यदि हम इसका सेवन नियमित रूप से करते हैं तो हमारी हड्डी काफी मजबूत होती हैं।

इसके बीजों में मौजूद मैगनीज और प्रोटीन के कारण कोलेजन के उत्पादन में मदद मिलती है जिससे हड्डियों को क्षति नहीं पहुंचती। इसीलिए इसके चूर्ण सेवन सुबह खाली पेट दूध के साथ करना चाहिए।

FAQ (प्रश्न-उत्तर)

खसखस की तासीर गर्म होती है या ठंडी?

खसखस की तासीर ठंडी होती है। अधिक जानें के लिए ऊपर पोस्ट पढ़े।

खसखस का दूसरा नाम क्या है

खसखस का वानस्पतिक नाम वेटिवेरिया ज़िज़नियोइडिस होता है। वैसे अंग्रेजी में इसे वेटियर ग्रास (Vetiver grass) तथा इसके बीजों को पॉपी सीड्स के नाम से जाना जाता है।

अस्वीकरण

खसखस में कई गुण विधमान है लेकिन जरुरी नहीं इसके गुणों का फायदा सभी को एक ही प्रकार से हो। हमारे द्वारा ऊपर बताये गए फायदे किसी को ज्यादा तो अन्य को कम हो सकते है। इसलिए सबसे अच्छा होगा कि इस्तेमाल से पहले आप आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह अवश्य ले।

आज का ज्ञान

आज हमने खसखस क्या है (Khas Khas Kya Hai) के इस लेख में कई महत्वपूर्ण बातों के बारें में जाना। हमने खसखस खाने के फायदे (Khas Khas Ke Fayde), खसखस के नुकसान (Khas Khas Ke Nuksan), खसखस के प्रकार (Types of Khus Khus in Hindi), खसखस के उपयोग के बारें में विस्तृत रूप में चर्चा की। आपको हमारा लेख कैसा लगा एवं अपने किसी भी सुझाव को बताने के लिए कमेंट अवश्य करे।

👇 अधिक पसंद किये जाने वाले लेख

प्रातिक्रिया दे

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.