पतंजलि रीनोग्रिट के 11 फायदे व नुकसान | Patanjali Renogrit Tablet in Hindi

पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट के फायदे (Divya Renogrit Tablet Benefits) दिव्य रीनोग्रिट टैबलेट के नुकसान, उपयोग (Side Effects, Uses of Patanjali Renogrit Tablet in  Hindi)

divya-patanjali-renogrit-tablet-in-hindi-benefits-uses
Patanjali Renogrit Tablet Uses in Hindi

हम सभी जानते हैं कि किडनी या गुर्दे हमारे शरीर का कितना जरूरी अंग है। इस जरूरी अंग में कोई भी गड़बड़ हमारे पूरे शरीर को बीमार बना सकती है।

ना चाहते हुए भी कहीं व्यक्ति किडनी रोगों से ग्रसित हो जाते हैं तथा उनकी जिंदगी बीमारियों की वजह से बहुत ही धीमी चलने लगती है। किडनी रोगों से बचाव के लिए आज हम रीनोग्रिट टैबलेट की जानकारी लाए हैं

Join WhatsApp

रीनोग्रिट टैबलेट को हर्बल तरीके से तैयार किया गया है इसे खासतौर पर किडनी रोगों से बचाव तथा उनमें आराम पाने के लिए निर्मित किया गया है। आज हम इस लेख में आपको रीनोग्रिट टैबलेट की सभी खूबियाँ बताएंगे तो यह भी बताएंगे कि यह किन-किन गुर्दे या किडनी रोगों में लाभ प्राप्त कराती है।

आइए जानते हैं दिव्य पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट के फायदे और नुकसान के बारे में –

पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट क्या है (Patanjali Renogrit Tablet in Hindi)

रीनोग्रिट एक आयुर्वेदिक दवाई है जिसे पतंजलि की दिव्य फार्मेसी द्वारा बनाया गया है इस दवाई को बनाने का उद्देश्य लोगों को किडनी रोगों में राहत प्रदान कराना है।

किडनी हमारी बॉडी के एक महत्वपूर्ण अंग में से एक है तथा इस अंग में कई बीमारियां जन्म ले लेती है। कई बार व्यक्ति ऐसी कंडीशन में पहुंच जाते हैं कि उन्हें किडनी ट्रांसप्लांट या फिर डायलिसिस कराने की नौबत आ जाती है।

किडनी से जुड़े बहुत से लोग हैं जिनका सही समय पर इलाज कराना बहुत अधिक आवश्यक होता है। इसीलिए पतंजलि कंपनी द्वारा रीनोग्रिट टैबलेट तैयार की गई है जिससे लोग किडनी रोगों में आराम प्राप्त कर सके।

👉 यह भी पढ़े > कान में आती है खाज या है कोई इन्फेक्शन तो जाने सारिवादी वटी के बारे में

किडनी क्या होती है?

किडनी रोगों के बारे में जाने से पहले जरूरी है कि हमें यह पता हो कि आखिर किडनी क्या होती है?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि किडनी बींस या राजमा जैसी दिखती है तथा इसका आकार हमारी मुट्ठी की बराबर होता है। हमारे शरीर में दो किडनी होती है, किडनी को हिंदी में गुर्दे के नाम से जाना जाता है।

एक युवा की एक किडनी लगभग 10 सेमी तक लंबी, 5 से 6 सेमी तक चोड़ी तथा 4 सेमी तक मोटी हो सकती है किडनी का वजन 150 से 170 ग्राम के बीच हो सकता है।

किडनी हमारे पेट के भीतरी भाग में एक सुरक्षित स्थान पर स्थित होती है जो निरंतर अपने कार्य में लगी रहती है अब हम जानेंगे कि आखिर किडनी का क्या कार्य होता है।

किडनी कैसे काम करती है?

हम प्रतिदिन अपनी भूख मिटाने वह शरीर को ऊर्जावान बन बनाए रखने के लिए कुछ ना कुछ खाते हैं। जब हम किसी आहार का सेवन करते हैं तो उस आहार के बचे अपशिष्ट पदार्थ हमारे शरीर में खास तौर पर खून में एकत्रित हो जाते है।

इन अपशिष्ट या टॉक्सिंस पदार्थों का शरीर से व खून से बाहर निकालना बहुत अधिक जरूरी होता है तथा यह बाहर निकलते हैं पेशाब करते समय।

Join Telegram

हमारी किडनी हमारे खून में हमारे शरीर से अनावश्यक पदार्थों को फिल्टर करके ब्लैडर में भेज देती है। मतलब किडनी हमारे रक्त से टॉक्सिंस फिल्टर करके मूत्र के साथ बाहर निकाल देती है जिस कारण हमारा शरीर में खून शुद्ध बना रहता है।

अगर किडनी शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालना बंद कर दें तो हम कई रोगों से ग्रसित हो सकते हैं। इसके साथ-साथ किडनी हमारे शरीर में आवश्यक पानी की मात्रा को नियंत्रित भी करती है यह अतिरिक्त पानी को पेशाब द्वारा शरीर से बाहर निकालने का कार्य करती है।

आशा है आपको किडनी के कार्य के बारे में पता चल गया होगा अब हम इसके रोगों की दवाई रीनोग्रिट के बारे में अधिक जानेंगे।

पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट में मौजूद घटक (Divya Renogrit Tablet Ingredients)

दिव्य रीनोग्रिट टेबलेट को आयुर्वेदिक तत्वों से तैयार किया गया है। जिनके नाम निम्नलिखित है –

  • अपामार्ग
  • पाषणभेद
  • पलाश
  • वरूण
  • पुनर्नवमूल
  • कसनी
  • कसनी
  • गोखरू…आदि

👉 यह भी पढ़े > स्किन रोगों के लिए ताल सिन्दूर से अच्छा कुछ नहीं

पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट के फायदे (Patanjali Renogrit Tablet Benefits and Uses)

दिव्या रीनोग्रिट टैबलेट किडनी रोगों की एक बहुत ही प्रभावी आयुर्वेदिक मेडिसिन है जिसके उपयोग से बहुत से लोगों को लाभ प्राप्त हो रहा है। चलिए डालते हैं एक नजर दिव्य पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट के फायदे के ऊपर –

  1. किडनी के टिशू में कोई समस्या आ जाने पर रीनोग्रिट टैबलेट के फायदे लिए जा सकते हैं।
  2. दिव्या रीनोग्रिट टैबलेट गुर्दे की पथरी बनने से भी रोकती है।
  3. किडनी के फंक्शन में सुधार करने के लिए पतंजलि रीनोग्रिट टेबलेट का उपयोग कर सकते हैं।
  4. रिनल सिस्टम की हेल्थ मेंटेन रखने में रीनोग्रिट टैबलेट बहुत ही कारगर होती है
  5. एक्टोपिक किडनी रोग में रीनोग्रिट टेबलेट फायदेमंद साबित हो सकती है।
  6. रीनोग्रिट टैबलेट के लाभ डायबिटीज इनसीपीडस की समस्या में भी ले जा सकते हैं।
  7. दिव्य पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट एमाइलॉयडॉसिस में भी लाभकारी सिद्ध हो सकती है।
  8. रीनोग्रिट टेबलेट पॉलीसिस्टिक किडनी रोग जिसमें किडनी में बड़ी संख्या में सिस्ट यानी पानी से भरे बुलबुले बन जाते हैं इस रोग में भी रीनोग्रिट टेबलेट लाभ कर सकती है।
  9. रीनोग्रिट टैबलेट का उपयोग नेफ्रोटिक सिंड्रोम की समस्या में भी किया जा सकता है
  10. क्रॉनिक किडनी रोगों में दिव्य रीनोग्रिट टैबलेट बहुत ही लाभकारी साबित होती है
  11. रिनल सिस्टम को सपोर्ट करने व गुर्दे की बीमारियों से बचाव के लिए रीनोग्रिटटेबलेट का सेवन किया जा सकता है।

आशा करते है आपको पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट के फायदे और उपयोग (Divya Patanjali Renogrit Tablet Uses in Hindi) के बारें में पता चल गया होगा।

पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट के नुकसान (Patanjali Renogrit Tablet Side Effects)

जैसा कि आपने ऊपर पढ़ ही लिया है कि रीनोग्रिट टैबलेट को बनाने में आयुर्वेदिक तत्वों जैसे पाषाणभेद, पलाश, वरुण, पुनर्नवा, गोखरू आदि का उपयोग किया गया है। हम सभी जानते हैं कि आयुर्वेदिक तत्वों के नुकसान इनकी गलत मात्रा या फिर इनका गलत तरीके से उपयोग करने पर ही होते हैं।

हमारे द्वारा की गई रिसर्च में भी हमें पतंजलि दिव्य रीनोग्रिट टैबलेट के साइड इफेक्ट्स या नुकसान के बारे में कोई भी जानकारी नहीं मिली है।

पतंजलि की ऑफिशल वेबसाइट पर भी लिखा हुआ है कि यदि यह दवाई निर्धारित मात्रा में सेवन की जाए तो इसके कोई भी साइड इफेक्ट्स या नुकसान नहीं होते हैं। फिर भी हम यही सलाह देना चाहेंगे कि आयुर्वेदिक डॉक्टर से इसकी मात्रा पहुंचने पर ही इसका सेवन करें।

👉 यह भी पढ़े > बुखार, खाँसी के लिए महासुदर्शन वटी है कमाल

रीनोग्रिट टैबलेट की सेवन विधि (Divya Renogrit Tablet Dosage)

दिव्य रीनोग्रिट टैबलेट के सेवन के तरीके की बात करें तो इसका सेवन आयुर्वेदिक चिकित्सक के परामर्श अनुसार ही या फिर इस के पैकेट पर लिखे निर्देश के अनुसार ही करना चाहिए।

दिव्य रीनोग्रिट टेबलेट के पैकेट पर लिखे निर्देश के अनुसार आप सुबह भोजन के आधे घंटे बाद रीनोग्रिट टैबलेट की एक से दो गोली व शाम को खाना खाने के आधे घंटे बाद एक से दो गोली गुनगुने पानी से ले सकते हैं।

आप चाहे तो रीनोग्रिट टैबलेट की बस 1-1 गोली सुबह व शाम सेवन कर सकते है.

दिव्य रीनोग्रिट टैबलेट कहां से खरीदें (Buy Divya Renogrit Tablet)

पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट एक बहुत ही प्रसिद्ध हर्बल दवाई है। बहुत से लोगों द्वारा इसका उपयोग किडनी रोगों से बचाव के लिए किया जा रहा है इसलिए यह दवाई आपको आपके नजदीकी पतंजलि स्टोर पर मिल ही जाएगी।

अगर यह दवाई आपके नजदीकी पतंजलि स्टोर पर उपलब्ध नहीं है तब आप इस दवाई को पतंजलि के ऑनलाइन स्टोर या फिर किसी और मेडिसिन वेबसाइट से घर पर ही मंगा सकते हैं।

पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट की कीमत (Patanjali Renogrit Tablet Price)

दिव्य रीनोग्रिट टेबलेट के प्राइस की बात करें तो इसका 46 ग्राम ग्राम का पैकेट लगभग ₹240 का आता है जिसमें 60 टैबलेट होती है।

₹240 = 60 टैबलेट

FAQ (प्रश्न-उत्तर)

प्रश्न – दिव्य रीनोग्रिट टैबलेट के क्या फायदे हैं?

उत्तर – रीनोग्रिट टैबलेट कई सामान्य तथा क्रॉनिक किडनी रोगों में फायदेमंद होती है। अधिक जानकारी के लिए आप ऊपर पोस्ट पढ़ सकते हैं।

प्रश्न – पतंजलि की कौन सी दवा किडनी के लिए सबसे अच्छी है?

उत्तर – किडनी रोगों से बचाव के लिए पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट या पुनर्नवा मंडूर का सेवन किया जा सकता है।

प्रश्न – रीनोग्रिट का उपयोग कैसे करना चाहिए?

उत्तर –  रीनोग्रिट की दो गोली भोजन के बाद गुनगुने पानी से सेवन करने की सलाह दी जाती है।

प्रश्न – किडनी के लिए रामबाण इलाज क्या है?

उत्तर – डॉक्टर की सलाह के अनुसार अगर रीनोग्रिटपतंजलि टेबलेट का सेवन किया जाए तो यह किडनी के लिए रामबाण इलाज हो सकती है।

समीक्षा सारांश

आज के इस पोस्ट में हमने किडनी से जुड़े रोगों की दवाई दिव्य पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट के फायदे (Benefits of Divya Patanjali Renogrit Tablet in Hindi) के बारे में जानकारी दें। साथ ही हमने रीनोग्रिट टैबलेट के नुकसान, कीमत व सेवन विधि के बारे में भी जाना।

हम आशा करते हैं कि आपको दिव्य पतंजलि रीनोग्रिट टैबलेट के उपयोग (Patanjali Renogrit Tablet Uses in Hindi) के बारे में लिखी यह पोस्ट काफी पसंद आई होगी। यदि आप रीनोग्रिट टैबलेट के बारे में कोई भी सवाल पूछना चाहते हैं तो हमसे बेझिझक कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं हमें आपके सवाल का उत्तर देने में काफी खुशी होगी।

Disclaimer: इस लेख में बताये तरीके, विधि व दावों की हेल्थीह्यूमन पुष्ठी नहीं करता। इन्हें केवल सुझाव की तरह ले। इस प्रकार के किसी भी उपचार/दवा/डाइट अम्ल में लाने से पहले चिकित्सक की सलाह जरुर ले।

ये भी पढ़े 👇

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.